अपना घर समझना  

अपना घर समझना एक प्रचलित लोकोक्ति अथवा हिन्दी मुहावरा है ।

अर्थ -अपने घर की तरह दुसरे के घर में रहना अर्थात् दूसरे के घर में किसी प्रकार की औपचारिकता न बरतना।

प्रयोग -मैंने तो सदा इस घर को अपना ही घर समझा है। भले ही आपने मुझे अपना समझा हो या न। (किरणबाला)


टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

कहावत लोकोक्ति मुहावरे वर्णमाला क्रमानुसार खोजें

                              अं                                                                                              क्ष    त्र    श्र

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=अपना_घर_समझना&oldid=624075" से लिया गया