भारतकोश के संस्थापक/संपादक के फ़ेसबुक लाइव के लिए यहाँ क्लिक करें।

आँख खुलना  

आँख खुलना एक प्रचलित लोकोक्ति अथवा हिन्दी मुहावरा है।

अर्थ-

  1. सोने के बाद जागना।
  2. रहस्य या कुचक्र का पता चलना।
  3. वस्तु स्थिति समझ में आ जाना।
  4. इस देश की जिंदा लाशों में यह स्पंदन क्या आया, अंग्रेजों के दातों तले उँगली आई और दुनिया की आँखें भी।

प्रयोग-

  • कभी-कभी आँख खुलती तो देखती तो दोनों बिस्तर से नदारद। - (शिवानी)
  • फिर पत्रों में स्त्रियों के अधिकारों की चर्चा पढ़ पढ़कर उसकी आँखें खुलने लगीं। - (प्रेमचंद)
  • जैसे- खुल पड़ी कि आग बुझी हुई नहीं है, बस दबी हुई थी। - (राजा राधिका प्रसाद सिंह)
  • जब मीर साहब की आँखें खुलीं, पानी सिर से ऊँचा निकल चुका था।- (भूषण)


टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

कहावत लोकोक्ति मुहावरे वर्णमाला क्रमानुसार खोजें

                              अं                                                                                              क्ष    त्र    श्र

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=आँख_खुलना&oldid=624432" से लिया गया