आँख पथराना  

आँख पथराना एक प्रचलित लोकोक्ति अथवा हिन्दी मुहावरा है।

अर्थ-

  1. मरणासत्र होने के समय पुतलियों का निश्चल होना।
  2. टक लगाकर राह देखते रहने के कारण आँखों का कठोर तथा निश्चल हो जाना।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

कहावत लोकोक्ति मुहावरे वर्णमाला क्रमानुसार खोजें

                              अं                                                                                              क्ष    त्र    श्र

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=आँख_पथराना&oldid=624136" से लिया गया