आँख भर देखना  

आँख भर देखना एक प्रचलित लोकोक्ति अथवा हिन्दी मुहावरा है।

अर्थ- जी भर देखना; विशेषत: इस प्रकार देखना कि मन को सुख और संतोष मिले।

प्रयोग-

  1. अब तुम अपने प्यार की न तो बात-चीत ही सुन सकती हो और न तो उसे आँख भर ही देख सकती हो।-(सीताराम चतुर्वेदी)
  2. अच्छा, तब तक निश्चित होकर वृक्षों की ओट से इसे आँख भर देख तो लूँ।-(सीताराम चतुर्वेदी)


टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

कहावत लोकोक्ति मुहावरे वर्णमाला क्रमानुसार खोजें

                              अं                                                                                              क्ष    त्र    श्र
"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=आँख_भर_देखना&oldid=624382" से लिया गया