भारतकोश के संस्थापक/संपादक के फ़ेसबुक लाइव के लिए यहाँ क्लिक करें।

आईआरएस-1डी उपग्रह  

आईआरएस-1 डी का प्रमोचन 27 सितम्बर, 1997 को पीएसएलवी-सी1 द्वारा किया गया था। आईआरएस-1सी का अनुवर्ती उपग्रह आईआरएस-1डी, आईआरएस शृंखला के उपग्रहों की दूसरी पीढ़ी का है। इसमें 3 नीतभार हैं, यथा पैन, लिस-3 तथा वाइफ़्स।

इसमे स्थानिक विभेदन, स्पेक्ट्रमी बैंड, त्रिविम प्रतिबिंबन, विशाल क्षेत्र के कवरेज और पुनर्दर्शन क्षमता की दृष्टि से आईआरसी-1सी के समान ही क्षमताएँ मौजूद हैं। आईआरएस-1सी के अनुभवों को ध्यान में रखते हुए आईआरएस-1डी में किए गए सुधारों के परिणामस्वरूप बेहतर गुणवत्ता के बिम्ब हासिल हुए हैं। 12 वर्ष और 3 महीनों के लिए सेवा के पश्चात् जनवरी, 2010 के दौरान मिशन का समापन हुआ।


मिशन संक्रियात्मक सुदूर संवेदन
भार 1250 कि.ग्रा.
ऑनबोर्ड पॉवर 809 वॉट (9.6 वर्ग मीटर के सौर पैनलों द्वारा जनित)
संचार एस-बैंड, एक्स-बैंड
स्थिरीकरण 4 अभिक्रिया चक्रों, चुंबकीय आघूर्णकों सहित तीन अक्षीय पिंड स्थिरीकृत (शून्य संवेग)
आरसीएस सोलह 1 न्यूटन थ्रस्टरों और एक 11 एन थ्रस्टरों सहित एकल नोदक हाइड्राज़ीन आधारित
नीतभार तीन ठोस स्थिति के पुश ब्रूम कैमरा:

पैन (6 मीटर विभेदन)
लिस-3 (23.6 मीटर विभेदन) और
वाइफ़्स (189 मीटर विभेदन)

ऑनबोर्ड टेप रिकॉर्डर भंडारण क्षमता : 62 गि. बिट्स
प्रमोचन दिनांक 27 सितंबर, 1997
प्रमोचन स्थल शार केंद्र, श्रीहरिकोटा, भारत
प्रमोचन यान पीएसएलवी-सी1
कक्षा (पद) 817 कि.मी. ध्रुवीय सूर्य-तुल्यकाली
प्राप्त कक्षा 740 x 817 कि.मी.
आनति 98.6 o
स्थानीय समय प्रातः 10.30 (अवरोही नोड)
मिशन का समापन जनवरी, 2010


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=आईआरएस-1डी_उपग्रह&oldid=596163" से लिया गया