आटे दाल का भाव मालूम होना  

आटे दाल का भाव मालूम होना एक प्रचलित लोकोक्ति अथवा हिन्दी मुहावरा है।

अर्थ- यह समझ में आना कि घर-गृहस्थी का काम कितनी मुश्किलों से चलता है।

प्रयोग- करते क्या बेचारे-जब चादर छोटी हो तो पैर फैलाने की गुंजाइश होने से रही आटे-दाल का भाव मालूम हो जाता।- (राजा राधिका रमण प्रसाद सिंह )


टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

कहावत लोकोक्ति मुहावरे वर्णमाला क्रमानुसार खोजें

                              अं                                                                                              क्ष    त्र    श्र
राजा राधिका प्रसाद सिंह

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=आटे_दाल_का_भाव_मालूम_होना&oldid=624037" से लिया गया