इरेनियल  

  • इरेनियल त्रिवेंद्रम-कन्याकुमारी मार्ग पर मूलगुमुद से सात मील दूर है।
  • तिरुवांकुरप नरेशों के पुराने राज प्रासाद के भीतर वसंत-मंडपम् में एक पत्थर की शैया दिखाई देती है जहाँ से किंवदंती के अनुसार प्राचीन केरल का प्रसिद्ध राजा भास्कर वर्मा सदेह स्वर्ग सिधारा था।
  • यह स्थान जिसे रनसिंगनुलूर भी कहते हैं केरल के पेरुमल नरेशों के समय विख्यात था।



टीका टिप्पणी और संदर्भ

  • ऐतिहासिक स्थानावली | पृष्ठ संख्या= 80| विजयेन्द्र कुमार माथुर | वैज्ञानिक तथा तकनीकी शब्दावली आयोग | मानव संसाधन विकास मंत्रालय, भारत सरकार

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=इरेनियल&oldid=627806" से लिया गया