उधार खाए बैठना  

उधार खाए बैठना एक प्रचलित लोकोक्ति अथवा हिन्दी मुहावरा है ।

अर्थ -किसी काम या बात पर तुले होना।

प्रयोग -

  1. मटके की भाँति तोंद निकली हुई है। लेकिन आज भी अपना नृत्य-कौशल दिखाने पर उधार खाए हुए है।-(प्रेमचंद)
  1. कुछ लोग तो उधार खाए बैठे है कि कोई बात हो और विरोध करें।-(भानुशंकर)


टीका टिप्पणी और संदर्भ=

संबंधित लेख

कहावत लोकोक्ति मुहावरे वर्णमाला क्रमानुसार खोजें

                              अं                                                                                              क्ष    त्र    श्र

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=उधार_खाए_बैठना&oldid=624254" से लिया गया