उस्ताद ईसा  

उस्ताद ईसा शिराज़ी (अंग्रेज़ी: Ustad Isa Shirazi) को काल्पनिक मुग़लकालीन वास्तुकार बताया जाता है। उसे प्रायः विश्व प्रसिद्ध ताजमहल का प्रधान वास्तुकार कहा जाता है।

  • उस्ताद ईसा को मूलरूप से यातो फ़ारसी या फिर तुर्क वास्तुकार बताया जाता है।
  • विश्वस्त सूचना के अभाव में कि ताजमहल के रूपांकन का श्रेय किसे दिया जाए, इसकी कई अफवाहें उड़ी। इतिहासकारों के अनुसार, 19वीं शताब्दी में इस खूबसूरत स्मारक का किसी यूरोपीय वास्तुकार को श्रेय दिए जाने की उत्सुकता ने इस कहानी को बल दिया।
  • स्थानीय लोगों के अनुसार, कारीगरों की फर्जी सूची भी बनाकर दे दी गई थी। इसके साथ ही पूरे एशिया से लाए गए सामान की सूची भी, जिससे कि अंग्रेज़ कोई यूरोपीय वास्तुकार को इस इमारत का झूठा श्रेय ना दे दें।
  • हाल के वर्षों में किये गए शोधों से ज्ञात हुआ है कि उस्ताद अहमद लाहौरी ही ताजमहल का प्रधान वास्तुकार था।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=उस्ताद_ईसा&oldid=662652" से लिया गया