एक्स्प्रेशन त्रुटि: अनपेक्षित उद्गार चिन्ह "३"।

कतरनी की तरह ज़बान चलना

भारत डिस्कवरी प्रस्तुति
यहाँ जाएँ:भ्रमण, खोजें

कतरनी की तरह ज़बान चलना एक प्रचलित लोकोक्ति अथवा हिन्दी मुहावरा है।

अर्थ- बिना अवसर - अनवसर देखे अथवा बिना छोटे- बड़े का लिहाज़ किए, जो मन में उल्टा-सीधा आए बक देना।


प्रयोग- कल की छोकरी, गज़ भर लंबी ज़बान और वह भी कतरनी की तरह चलनेवाली।


टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

कहावत लोकोक्ति मुहावरे वर्णमाला क्रमानुसार खोजें

                              अं                                                                                              क्ष    त्र    श्र