भारतकोश के संस्थापक/संपादक के फ़ेसबुक लाइव के लिए यहाँ क्लिक करें।

कुल्लजम साहेब  

कुल्लजम साहेब अठारहवीं शताब्दी में विरचित संत साहित्य का एक ग्रंथ है। इसके रचयिता स्वामी प्राणनाथ हैं।[1]

  • स्वामी प्राणनाथ ने इस ग्रंथ में बतलाया है कि भारत के सभी धर्म एक ही पुरुष (ईश्वर) में समाहित हैं।
  • ईसाईयों के मसीहा, मुस्लिमों के महदी एवं हिन्दुओं के निष्कलंकावतार सभी एक ही व्यक्ति के रूप हैं।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. हिन्दू धर्मकोश |लेखक: डॉ. राजबली पाण्डेय |प्रकाशक: उत्तर प्रदेश हिन्दी संस्थान |पृष्ठ संख्या: 193 |

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=कुल्लजम_साहेब&oldid=306888" से लिया गया