कौराल  

कौराल गुप्त सम्राट समुद्रगुप्त की प्रयाग प्रशस्ति में वर्णित एक प्रदेश का नाम है-

'कौसलक महेंद्र महाकांतार व्याघ्रराज, कौरल (ड) क मंटराज पैष्ठपुरक महेंद्र गिरि।'
  • इतिहासकार हेमचन्द्र रायचौधरी के मत में इस नाम से केरल, जिसकी राजधानी महानदी पर स्थित 'ययातिनगर' में थी, का बोध होता है।[1]
  • डॉ. बारनेट के अनुसार यह दक्षिण का कोराड़ नामक ग्राम है[2] और डॉ. कीलहार्न के मत में कोलेयर झील का तटवर्ती क्षेत्र[3]


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. ऐतिहासिक स्थानावली |लेखक: विजयेन्द्र कुमार माथुर |प्रकाशक: राजस्थान हिन्दी ग्रंथ अकादमी, जयपुर |पृष्ठ संख्या: 243 |
  2. कलकत्ता रिव्यू, फ़र्वरी, 1924
  3. कीलहार्न, एपिग्राफ़िका इंडिका, जिल्द 6, पृ. 3

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=कौराल&oldid=297880" से लिया गया