भारतकोश के संस्थापक/संपादक के फ़ेसबुक लाइव के लिए यहाँ क्लिक करें।

चिक्कन्ना नायक  

चिक्कन्ना नायक (अंग्रेज़ी: Chikkanna Nayaka, शासन काल- 1676 ई. से 1686 ई.) मदकरी नायक का छोटा भाई था। मदकेरी नायक की कोई संतान नहीं थी, जिस कारण उनके एक छोटे भाई चिक्कन्ना नायक को 1676 ई. में गद्दी पर बिठाया गया।

  • उस समय, हरपनहल्ली के सरदार ने अनाजी पर आक्रमण किया और स्थानीय अधिकारी भुनप्पा की हत्या कर दी। चिक्कन्ना नायक अनाजी आये और शत्रु को घेराबंदी रोकने पर मजबूर कर दिया। इसके तुरंत बाद, उसे शमशेर खान के नेतृत्व में मुसलमानों द्वारा किये गए एक हमले को नाकाम करने के लिए हरिहर जाना पड़ा।
  • रात के समय कई मशालों को जलाकर वृक्षों की शाखाओं से बांध दिया गया और संगीतज्ञों से बेरेगुड्डा पहाड़ी स्थित चिक्कन्ना के शिविर में हमेशा की तरह अपने वाद्ययंत्रों को बजाने के लिए कहा गया। ऐसा यह जताने के लिए किया गया था कि सेना आगे नहीं बढ़ी है। चिक्कन्ना नायक अपनी पूरी सेना को एक घुमावदार रास्ते से लेकर आगे बढ़ा और किले पर पश्चिमी दिशा से हमला कर दुश्मन को खदेड़ दिया।
  • चिक्कन्ना नायक ने रायदुर्ग और बासवपट्टना सरदारों के साथ विवाह गठबंधन किया। कहा जाता है कि चित्रदुर्ग परिवार ने इस नायक के शासन काल के दौरान दो बार अपनी धार्मिक आस्थाओं में परिवर्तन किया था। पहले पूरे परिवार ने वीराशैव आस्था को अपनाया, यहां तक कि चिक्कन्ना नायक ने किले के अंदर एक मठ का भी निर्माण करवाया और उग्रचन्नावीरादेवा नामक एक विरक्त जन्गमा को अपने पारिवारिक गुरु के रूप में नियुक्त किया। बाद में, लगभग सभी लोग अपने मूल धर्म में वापस लौट आये।
  • 1686 में चिक्कन्ना नायक की मृत्यु हो गई।
  • चिक्कन्ना नायक के बाद मदकरी नायक तृतीय के नाम से जाने जाने वाले उनके बड़े भाई लिंगन्ना नायक ने गद्दी संभाली।
पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=चिक्कन्ना_नायक&oldid=646314" से लिया गया