ज़बान चलाना  

ज़बान चलाना एक प्रचलित लोकोक्ति अथवा हिन्दी मुहावरा है।

अर्थ-

  1. जल्दी-जल्दी बातें कहना।
  2. बढ़-बढ़कर या उद्दंडतापूर्वक बातें करना।

प्रयोग -

  1. हम माँ के सामने ऐसे ज़बान चलाते तो पापा ने ओखली में कूट दिया होता। ...(यशपाल)
  2. कभी उन्हें भी आँख दिखाओ, कभी उनके सामने भी ज़बान चलाओ तो जानें। ...(भूषण वनमाली)
  3. अस्पताल की मामूली सी नर्स और शान यह कि हम से ज़बान चलाती है। ...(भूषण वनमाली)

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

कहावत लोकोक्ति मुहावरे वर्णमाला क्रमानुसार खोजें

                              अं                                                                                              क्ष    त्र    श्र

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=ज़बान_चलाना&oldid=625362" से लिया गया