भारतकोश के संस्थापक/संपादक के फ़ेसबुक लाइव के लिए यहाँ क्लिक करें।

जीसैट-4 उपग्रह  

जीसैट-4 'भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन' (इसरो) द्वारा निर्मित भू-स्थिर उपग्रहों में उन्नीसवाँ और जीसैट शृंखला में चौथा उपग्रह था। जीसैट-4 मूलतः निम्नलिखित नई प्रौद्योगिकियों के परीक्षण के उद्देश्य से एक प्रायोगिक उपग्रह था-

  1. इलेक्ट्रिक नोदन प्रणाली
  2. बस प्रबंधन इकाई
  3. डेटा संचार के लिए 1553 बस
  4. लघुकृत गतिक रूप से ट्यून किए गए जायरो
  5. 36 एएच लिथियम आयन बैटरी
  6. के.ए. बैंड टी.डब्ल्यू.टी.ए के लिए 70 वी बस

जीसैट-4 को कक्षा में स्थापित नहीं किया जा सका, क्योंकि जीएसएलवी-डी3 के द्वारा मिशन पूरा नहीं किया जा सका।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=जीसैट-4_उपग्रह&oldid=349121" से लिया गया