डामर  

डामर भगवान शिव द्वारा प्रणीत शास्त्रों में एक है। इसका शाब्दिक अर्थ है 'चमत्कार'।[1]

  • इस शास्त्र में भूतों के चमत्कार का वर्णन है।
  • काशीखण्ड[2] में इसका उल्लेख है-
'डामरी डामरकल्पी नवाक्षरदेवीमंत्रस्य प्रतिपादको ग्रंथ।'

(दुर्गा देवी के नौ अक्षर वाले मंत्र का रहस्यविस्तारक ग्रंथ 'डामर' कहलाता है।)

  • वाराहीतंत्र में डामर की टीका मिलती है। इसके अनुसार डामर छ: प्रकार का है-
  1. योग डामर
  2. शिव डामर
  3. दुर्गा डामर
  4. सारस्वत डामर
  5. ब्रह्म डामर
  6. गन्धर्व डामर
  • 'कोटचक्र' विशेष का नाम भी डामर है। 'समयामृत' ग्रंथ में आठ प्रकार के कोटचक्रों का वर्णन है, जिनमें डामर भी एक है।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. हिन्दू धर्मकोश |लेखक: डॉ. राजबली पाण्डेय |प्रकाशक: उत्तर प्रदेश हिन्दी संस्थान |पृष्ठ संख्या: 289 |
  2. काशीखण्ड (29.70)

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=डामर&oldid=469241" से लिया गया