भारतकोश के संस्थापक/संपादक के फ़ेसबुक लाइव के लिए यहाँ क्लिक करें।

तिष्य (अशोक का भाई)  

  • लंका की परम्परा में [1] बिंदुसार की सोलह पटरानियों और 101 पुत्रों का उल्लेख है। पुत्रों में केवल तीन के नामोल्लेख हैं, वे हैं -
  1. सुमन [2] जो सबसे बड़ा था,
  2. अशोक
  3. तिष्य।
  • तिष्य अशोक का सहोदर भाई और सबसे छोटा था।
  • उत्तरी परम्परा में इसका नाम वीताशोक या विगताशोक भी मिलता है। युवानचुंग इसका नाम महेंद्र बताता है और अन्य चीनी ग्रंथों में सुदत्त और सुगात्र नाम भी आये हैं।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

मुखर्जी, राधाकुमुद अशोक (हिंदी)। नई दिल्ली: मोतीलाल बनारसीदास, 2।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. जिसका आख्यान 'दीपवंश' और 'महावंश' में हुआ है
  2. उत्तरी परम्पराओं का सुसीम

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=तिष्य_(अशोक_का_भाई)&oldid=220661" से लिया गया