भारतकोश के संस्थापक/संपादक के फ़ेसबुक लाइव के लिए यहाँ क्लिक करें।

नीके रहियौ जसुमति मैया -सूरदास  

Icon-edit.gif इस लेख का पुनरीक्षण एवं सम्पादन होना आवश्यक है। आप इसमें सहायता कर सकते हैं। "सुझाव"
नीके रहियौ जसुमति मैया -सूरदास
सूरदास
कवि महाकवि सूरदास
जन्म संवत 1535 वि.(सन 1478 ई.)
जन्म स्थान रुनकता
मृत्यु 1583 ई.
मृत्यु स्थान पारसौली
मुख्य रचनाएँ सूरसागर, सूरसारावली, साहित्य-लहरी, नल-दमयन्ती, ब्याहलो
इन्हें भी देखें कवि सूची, साहित्यकार सूची
सूरदास की रचनाएँ
  • नीके रहियौ जसुमति मैया -सूरदास

नीके रहियौ[1] जसुमति मैया।
आवहिंगे दिन चारि पांच में हम हलधर दोउ भैया॥
जा दिन तें हम तुम तें बिछुरै, कह्यौ न कोउ `कन्हैया'।
कबहुं प्रात न कियौ कलेवा, सांझ न पीन्हीं पैया॥[2]
वंशी बैत विषान[3] दैखियौ द्वार अबेर सबेरो।[4]
लै जिनि जाइ चुराइ राधिका कछुक खिलौना मेरो॥
कहियौ जाइ नंद बाबा सों, बहुत निठुर मन कीन्हौं।
सूरदास, पहुंचाइ मधुपुरी बहुरि न सोधौ[5] लीन्हौं॥


टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. कोई चिम्ता न करना।
  2. ताजे दूध की धार पीने को नहीं मिली।
  3. सींग, (बजाने का)।
  4. समय-असमय, बीच-बीच में जब अवसर मिले।
  5. खबर भी।

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=नीके_रहियौ_जसुमति_मैया_-सूरदास&oldid=257717" से लिया गया