नुस्खा-ए-दिलकुशा  

नुस्खा-ए-दिलकुशा (अंग्रेज़ी: Nuskha-E-Dilkusha) की रचना कायस्थ जाति के भीमसेन ने फ़ारसी भाषा में की। वह मुग़ल बादशाह औरंगज़ेब की सेना में लिपिक था।

  • भीमसेन ने औरंगज़ेब की सेना के साथ कई युद्धों में भाग लिया था।
  • मुग़ल सेना द्वारा पनहाला का दुर्ग घेरे जाने पर उसने सैनिक सेवा छोड़ दी तथा नुस्खा-ए-दिलकुशा ग्रंथ की रचना शुरू की।
  • नुस्खा-ए-दिलकुशा में वर्णित घटनाएं सत्य हैं। लेखक ने ऐतिहासिक व्यक्तियों के चरित्र का यथार्थता में चित्रण किया है।
  • इस ग्रंथ में चापलूसी देखने को नहीं मिलती। अतः जे. एन. सरकार ने उसे महान संस्मरण लेखक माना है।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=नुस्खा-ए-दिलकुशा&oldid=661453" से लिया गया