पद्मनाभजी का मन्दिर मथुरा  

  • मथुरा देवी मन्दिर से होकर पूर्व की ओर जाने पर भगवान् श्रीपद्मनाभ का चौबेया पाड़ा में मन्दिर है।
  • गर्भोदशायी भगवान् पद्मनाभ के नाभिस्थल से निकली हुई कमल डण्डी से नि:सृत पद्म के ऊपर लोक पितामह ब्रह्माजी का जन्म होता है और उन्हीं की कृपा से वे वैराज ब्रह्मजी स्थूल-ब्राह्माण्ड की सृष्टि करते हैं।


संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=पद्मनाभजी_का_मन्दिर_मथुरा&oldid=626859" से लिया गया