पर्जन्य (गोप)  

Disamb2.jpg पर्जन्य एक बहुविकल्पी शब्द है अन्य अर्थों के लिए देखें:- पर्जन्य (बहुविकल्पी)

पर्जन्य गोप नंदबाबा के पिता का नाम था।

  • द्वापरयुग के अन्त में देवमीढ़ नाम के एक मुनि थे। उनकी दो पत्नियाँ थीं। एक क्षत्रिय वंश की तथा दूसरी गोप वंश की थीं। पहली क्षत्रिय पत्नी से शूरसेन तथा दूसरी गोपपत्नी से पर्जन्य गोप का जन्म हुआ था। पर्जन्य गोप का विवाह वरीयसी गोपी के साथ हुआ था। ये कृषि और गोपालन के द्वारा अपना जीवन निर्वाह करते तथा अपनी पत्नी वरीयसी गोपी के साथ नन्दीश्वर पर्वत के निकट निवास करते थे।[1]
  • पर्जन्य गोप की पत्नि वरीयसी गोपी से पाँच पुत्र तथा दो कन्याएँ उत्पन्न हुई थीं।[2]
  • पुत्रों के नाम निम्न हैं-
  1. उपानन्द
  2. अभिनन्द
  3. श्रीनन्द
  4. सुनन्द
  5. नन्दन
  • पुत्रियों के नाम निम्न हैं-
  1. सनन्दा
  2. नन्दिनी


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. नन्दगाँव
  2. महावन

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=पर्जन्य_(गोप)&oldid=611847" से लिया गया