फेनप ऋषि  

फेनप ऋषि भार्गव वंश के गोत्रकार ऋषियों में से एक थे। ये दूध के स्थान पर उसके झाग (फेन) का पान करते थे, इसीलिए 'फेनप ऋषि' कहलाये।

  • त्रिशिखर गिरि से कूलहा नदी प्रवाहित हुई, जिसके तट पर भृगु के आश्रम में सुमित्र रहते थे।
  • वे गाय के दुग्ध का पान नहीं करते थे, गौवत्सों के मुख से गिरे झाग का पान करते थे।
  • फेन के पान के कारण ही ये 'फेनप ऋषि' के नाम से प्रसिद्ध हुए।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

भारतीय संस्कृति कोश, भाग-2 |प्रकाशक: यूनिवर्सिटी पब्लिकेशन, नई दिल्ली-110002 |संपादन: प्रोफ़ेसर देवेन्द्र मिश्र |पृष्ठ संख्या: 522 |


टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=फेनप_ऋषि&oldid=243848" से लिया गया