बझा रहना  

बझा रहना एक प्रचलित लोकोक्ति अथवा हिन्दी मुहावरा है।

अर्थ- बँधा या फँसा रहना, व्यस्थ रहना।

प्रयोग- सब लोगों को खिला पिलाकर तीसरे पहर बर्तन साफ़ करने तक बझी रहती है। (नरेश मेहता)


टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

कहावत लोकोक्ति मुहावरे वर्णमाला क्रमानुसार खोजें

                              अं                                                                                              क्ष    त्र    श्र
"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=बझा_रहना&oldid=625055" से लिया गया