}

महाभारत युद्ध पाँचवाँ दिन  

महाभारत युद्ध के पाँचवें दिन श्रीकृष्ण ने पांडव सेना में उत्साह का संचार करने वाला उपदेश दिया। उनके उपदेश के बाद युद्ध की शुरुआत हुई और फिर भयंकर मार-काट मच गई।

  • दोनों ही पक्षों के सैनिक पूरे उत्साह से लड़ रहे थे। भारी संख्या में दोनों ओर के सैनिकों का वध हुआ।
  • इस दिन भीष्म ने पांडव सेना को अपने बाणों से ढंक दिया। उन पर रोक लगाने के लिए क्रमशः अर्जुन और भीम ने उनसे भयंकर युद्ध किया।
  • सात्यकि ने द्रोणाचार्य को भीषण संहार करने से रोके रखा।
  • पितामह भीष्म द्वारा सात्यकि पराजित हुआ और उसे युद्ध क्षेत्र से भगा दिया गया।
  • पाँचवें दिन के युद्ध में भूरिश्रवा द्वारा सात्यकि के दस पुत्रों ने वीरतापूर्वक लड़ते हुए वीरगति प्राप्त की।
  • इस दिन के युद्ध में दोनों ही पक्ष ने डट कर एक-दूसरे का मुकाबला किया।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=महाभारत_युद्ध_पाँचवाँ_दिन&oldid=546359" से लिया गया