वैकुण्ठ तीर्थ मथुरा  

वैकुण्ठतीर्थें य: स्नाति मुच्यते सर्वपातके: ।
सर्वपापविनिर्मुक्तो विष्णुलोकं स गच्छति ॥

जो व्यक्ति वैकुण्ठ तीर्थ में स्नान करता है वह सभी प्रकार के पापों से मुक्त हो जाता है और वह व्यक्ति सर्वप्रकार के पापों से मुक्त होकर विष्णुलोक को चला जाता है ।

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=वैकुण्ठ_तीर्थ_मथुरा&oldid=191180" से लिया गया