संतत संपति जान के -रहीम  

संतत संपति जान के , सब को सब कछु देत ।
दीनबंधु बिनु दीन की, को ‘रहीम’ सुधि लेत ॥

अर्थ

यह मानकर कि सम्पत्ति सदा रहने वाली है, धनी लोग सबको जो माँगने आते हैं, सब कुछ देते हैं। किन्तु दीन-हीन की सुधि दीनबन्धु भगवान् को छोड़ और कोई नहीं लेता।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=संतत_संपति_जान_के_-रहीम&oldid=548682" से लिया गया