हम जुवती पति गेलाह -विद्यापति  

हम जुवती पति गेलाह -विद्यापति
विद्यापति का काल्पनिक चित्र
कवि विद्यापति
जन्म सन् 1350 से 1374 के मध्य
जन्म स्थान बिसपी गाँव, मधुबनी ज़िला, बिहार
मृत्यु सन् 1440 से 1448 के मध्य
मृत्यु स्थान मगहर, उत्तर प्रदेश
मुख्य रचनाएँ कीर्तिलता, मणिमंजरा नाटिका, गंगावाक्यावली, भूपरिक्रमा आदि
भाषा संस्कृत, अवहट्ट और मैथिली
इन्हें भी देखें कवि सूची, साहित्यकार सूची
विद्यापति की रचनाएँ
  • हम जुवती पति गेलाह -विद्यापति

हम जुवती, पति गेलाह बिदेस,
लग नहि बसए पड़उसिहु लेस !

सासु ननन्द किछुआओ नहि जान,
आँखि रतौन्धी, सुनए न कान !

जागह पथिक, जाह जनु भोर ,
राति अन्धार, गाम बड़ चोर

सपनेहु भाओर न देअ कोटबार,
पओलेहु लोते न करए बिचार !

नृप इथि काहु करथि नहि साति ,
पुरख महत सब हमर सजाति !

विद्यापति कवि एह रस गाब ,
उकुतिहि भाव जनाब !


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

बाहरी कड़ियाँ

"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=हम_जुवती_पति_गेलाह_-विद्यापति&oldid=313994" से लिया गया