भारतकोश के संस्थापक/संपादक के फ़ेसबुक लाइव के लिए यहाँ क्लिक करें।

"बहमनी वंश" के अवतरणों में अंतर  

[अनिरीक्षित अवतरण][अनिरीक्षित अवतरण]
(बहमनी राज्य के शासक)
 
(9 सदस्यों द्वारा किये गये बीच के 30 अवतरण नहीं दर्शाए गए)
पंक्ति 1: पंक्ति 1:
{{tocright}}
+
[[मुहम्मद बिन तुग़लक़]] के शासन काल के अन्तिम दिनो में दक्कन में 'अमीरान-ए-सादाह' के विद्रोह के परिणामस्वरूप 1347 ई. में 'बहमनी साम्राज्य' की स्थापना हुई। दक्कन के सरदारों ने [[दौलताबाद]] के क़िले पर अधिकार कर' इस्माइल' [[अफ़ग़ान]] को' नासिरूद्दीन शाह' के नाम से दक्कन का राजा घोषित किया। इस्माइल बूढ़ा और आराम तलब होने के कारण इस पद के अयोग्य सिद्ध हुआ। शीघ्र ही उसे अधिक योग्य नेता [[अलाउद्दीन बहमन शाह प्रथम|हसन]], जिसकी उपाधि 'जफ़र ख़ाँ' थी, के पक्ष में गद्दी छोड़नी पड़ी। जफ़र ख़ाँ को सरदारों ने [[3 अगस्त]], 1347 को 'अलाउद्दीन बहमनशाह' के नाम से सुल्तान घोषित किया। उसने अपने को [[ईरान]] के 'इस्फन्दियार' के वीर पुत्र 'बहमनशाह' का वंशज बताया, जबकि [[फ़रिश्ता]] के अनुसार- वह प्रारंभ में एक [[ब्राह्मण]] गंगू का नौकर था। उसके प्रति सम्मान प्रकट करने के उद्देश्य से शासक बनने के बाद बहमनशाह की उपाधि ली। अलाउद्दीन हसन ने गुलबर्गा को अपनी राजधानी बनाया तथा उसका नाम बदलकर 'अहसानाबाद' कर दिया। उसने साम्राज्य को चार प्रान्तों- [[गुलबर्गा]], [[दौलताबाद]], [[बरार]] और [[बीदर]] में बांटा। [[4 फ़रवरी]], 1358 को उसकी मृत्यु हो गयी। इसके उपरान्त सिंहासनारूढ़ होने वाले शासको में [[फ़िरोज शाह बहमनी]] ही सबसे योग्य शासक था।
==स्थापना==
+
{| class="bharattable-green" border="1" style="margin:5px; float:right"
दक्षिण में बहमनी राज्य और राजवंश का आरम्भ [[दिल्ली]] के सुल्तान मुहम्मद तुग़लक (1325-51 ई0) के एक अधिकारी [[अलाउद्दीन बहमन शाह प्रथम|हसन]] (उपनाम ज़फ़रशाह) ने 1347 ई0 में किया। तुग़लक के अत्याचारों और उसकी सनक के कारण दक्षिण के मुसलमान अमीरों ने विद्रोह कर दिया। हसन ने इस विद्रोह का फायदा उठाया और वहाँ अपना शासन स्थापित कर लिया। हसन अपने को फ़ारस के वीर योद्धा बहमन का वंशज मानता था, इसलिए उसका वंश बहमनी कहलाने लगा। तख्त पर बैठने के बाद हसन ने अलाउद्दीन बहमन शाह का ख़िताब धारण कर लिया और अपनी राजधानी कुलबर्ग अथवा [[गुलबर्गा]] में बनायी। उसने 11 वर्ष (1347-58) तक शासन किया। उसकी मृत्यु के समय बहमनी राज्य उत्तर में पेनगंगा से दक्षिण में [[कृष्णा नदी]] के किनारे तक और पश्चिम में [[गोवा]] से पूर्व में भोंगिर तक फैल गया था।  
+
|+बहमनी वंश के शासक
==बहमनी राज्य के शासक==
+
|-
बहमनी राज्य में [[अलाउद्दीन बहमन शाह प्रथम|हसन]] के अतिरिक्त 13 अन्य सुल्तान हुए थे। इनमें:-  
+
! शासक
*[[मुहम्मद बहमनी शाह प्रथम]] (1358-73 ई0),
+
!शासन काल
*[[मुज़ाहिद बहमनी]] (1373-77 ई0),
+
|-
*[[दाऊद बहमनी]] (1378 ई0),
+
| [[अलाउद्दीन बहमन शाह प्रथम]]
*[[मुहम्मद बहमनी शाह द्वितीय]] (1378-97 ई0),
+
| 1347-1358 ई.
*[[गयासुद्दीन बहमनी]] (1397 ई0),
+
|-
*[[शम्सुद्दीन बहमनी]] (1397 ई0),
+
| [[मुहम्मद बहमनी शाह प्रथम]]
*[[फ़िरोज शाह बहमनी]] (1397-1422 ई0),
+
| 1358-1373 ई.
*[[अहमदशाह बहमनी|अहमद द्वितीय]] (1422-35 ई0),
+
|-
*[[अलाउद्दीन बहमन शाह द्वितीय]] (1435-57 ई0), 
+
| [[मुज़ाहिद बहमनी]]
*[[हुमायूँ]] (1457-61 ई0),
+
| 1373-1377 ई.
*[[निज़ाम शाह बहमनी]] (1461-63 ई0),
+
|-
*[[मुहम्मद बहमनी शाह तृतीय]] (1463-82), और
+
| [[दाऊद बहमनी]]
*[[महमूद शाह बहमनी]] (1482-1518 ई0) शामिल हैं।
+
| 1378 ई.
 +
|-
 +
| [[मुहम्मद बहमनी शाह द्वितीय]]
 +
| 1378-1397 ई.
 +
|-
 +
| [[ग़यासुद्दीन बहमनी]]
 +
| 1397 ई.
 +
|-
 +
| [[शम्सुद्दीन बहमनी]]
 +
| 1397 ई.
 +
|-
 +
| [[फ़िरोज शाह बहमनी]]
 +
| 1397-1422 ई.
 +
|-
 +
| [[अहमदशाह बहमनी|अहमदशाह प्रथम]]
 +
| 1422-1435 ई.
 +
|-
 +
| [[अलाउद्दीन बहमन शाह द्वितीय|अलाउद्दीन अहमदशाह द्वितीय]]
 +
| 1435-1457 ई.
 +
|-
 +
| [[हुमायूँ शाह बहमनी]]
 +
 
 +
| 1457-1461 ई.
 +
 
 +
|-
 +
| [[निज़ाम शाह बहमनी]]
 +
| 1461-63 ई.
 +
|-
 +
| [[मुहम्मद बहमनी शाह तृतीय]]
 +
| 1463-82  
 +
|-
 +
| [[महमूद शाह बहमनी]]
 +
| 1482-1518 ई.
 +
|-
 +
| [[कलीमुल्ला बहमनी शाह]]
 +
| 1526-1538 ई.
 +
|}
 +
 
 +
==विजयनगर से युद्ध==
 +
बहमनी सल्तनत की अपने पड़ोसी [[विजयनगर साम्राज्य|विजयनगर]] के हिन्दू राज्य से लगातार अनबन चलती रही। विजयनगर राज्य उस समय [[तुंगभद्रा नदी]] के दक्षिण और [[कृष्णा नदी]] के उत्तरी क्षेत्र में फैला हुआ था और उसकी पश्चिमी सीमा बहमनी राज्य से मिली हुई थी। विजयनगर राज्य के दो मज़बूत क़िले मुदगल और रायचूर बहमनी सीमा के निकट स्थित थे। इन क़िलों पर बहमनी सल्तनत और विजयनगर राज्य दोनों दाँत लगाये हुए थे। इन दोनों राज्यों में धर्म का अन्तर भी था। बहमनी राज्य इस्लामी और विजयनगर राज्य हिन्दू था। बहमनी सल्तनत की स्थापना के बाद ही उन दोनों राज्यों में लड़ाइयाँ शुरू हो गईं और वे तब तक चलती रहीं जब तक बहमनी सल्तनत क़ायम रही। बहमनी सुल्तानों के द्वारा पड़ोसी हिन्दू राज्य को नष्ट करने के सभी प्रयास निष्फल सिद्ध हुए, यद्यपि इन युद्धों में अनेक बार बहमनी सुल्तानों की विजय हुई और [[रायचूर कर्नाटक|रायचूर]] के [[दोआब]] पर विजयनगर के राजाओं के मुक़ाबले में बहमनी सुल्तानों का अधिकार अधिक समय तक रहा।
  
==बहमनी और विजयनगर में युद्ध==
 
बहमनी सल्तनत की अपने पड़ोसी [[विजयनगर साम्राज्य|विजयनगर]] के हिन्दू राज्य से लगातार अनबन चलती रही। विजयनगर राज्य उस समय [[तुंगभद्रा नदी]] के दक्षिण और [[कृष्णा नदी]] के उत्तरी क्षेत्र में फैला हुआ था और उसकी पश्चिमी सीमा बहमनी राज्य से मिली हुई थी। विजयनगर राज्य के दो मज़बूत क़िले मुदगल और रायचूर बहमनी सीमा के निकट स्थित थे। इन क़िलों पर बहमनी सल्तनत और विजयनगर राज्य दोनों दाँत लगाये हुए थे। इन दोनों राज्यों में धर्म का अन्तर भी था। बहमनी राज्य इस्लामी और विजयनगर राज्य हिन्दू था। बहमनी सल्तनत की स्थापना के बाद ही उन दोनों राज्यों में लड़ाइयाँ शुरू हो गईं और वे तब तक चलती रहीं जब तक बहमनी सल्तनत क़ायम रही। बहमनी सुल्तानों के द्वारा पड़ोसी हिन्दू राज्य को नष्ट करने के सभी प्रयास निष्फल सिद्ध हुए, यद्यपि इन युद्धों में अनेक बार बहमनी सुल्तानों की विजय हुई और [[रायचूर]] के दोआब पर विजयनगर के राजाओं के मुक़ाबले में बहमनी सुल्तानों का अधिकार अधिक समय तक रहा।
 
 
==तख़्त के लिए रक्तपात==
 
==तख़्त के लिए रक्तपात==
 
बहमनी सुल्तानों में तख़्त के लिए प्रायः रक्तपात होता रहा। चार सुल्तानों को क़त्ल कर दिया गया। दो अन्य को गद्दी से जबरन उतार कर अंधा कर दिया गया। चौदह सुल्तानों में से केवल पाँच सुल्तान ही अपनी मौत से मरे। नवें सुल्तान अहमद ने राजधानी [[गुलबर्ग]] से हटाकर [[बीदर]] बनायी, जहाँ उसने अनेक आलीशान इमारतों का निर्माण कराया।
 
बहमनी सुल्तानों में तख़्त के लिए प्रायः रक्तपात होता रहा। चार सुल्तानों को क़त्ल कर दिया गया। दो अन्य को गद्दी से जबरन उतार कर अंधा कर दिया गया। चौदह सुल्तानों में से केवल पाँच सुल्तान ही अपनी मौत से मरे। नवें सुल्तान अहमद ने राजधानी [[गुलबर्ग]] से हटाकर [[बीदर]] बनायी, जहाँ उसने अनेक आलीशान इमारतों का निर्माण कराया।
 
==शासनिक पद==  
 
==शासनिक पद==  
बहमनी राज्य की आबादी में मुसलमान अल्पसंख्यक थे, इसलिए सुल्तान ने राज्य के बाहर के मुसलमानों को वहाँ आकर बसने के लिए प्रोत्साहित किया। परिणामस्वरूप बहुत से विदेशी मुसलमान वहाँ आकर बस गये जो अधिकतर शिया थे। उनमें से बहुत से लोगों को राज्य के महत्वपूर्ण पदों पर नियुक्त किया गया। विदेशी मुसलमानों के बढ़ते हुए प्रभाव से खिन्न होकर दक्खिनी औ अबीसीनियाई मुसलमान, जो ज्यादातर सुन्नी थे, उनसे शत्रुता रखने लगे।  
+
बहमनी राज्य की आबादी में मुसलमान अल्पसंख्यक थे, इसलिए सुल्तान ने राज्य के बाहर के मुसलमानों को वहाँ आकर बसने के लिए प्रोत्साहित किया। परिणामस्वरूप बहुत से विदेशी मुसलमान वहाँ आकर बस गये जो अधिकतर शिया थे। उनमें से बहुत से लोगों को राज्य के महत्त्वपूर्ण पदों पर नियुक्त किया गया। विदेशी मुसलमानों के बढ़ते हुए प्रभाव से खिन्न होकर दक्खिनी औ अबीसीनियाई मुसलमान, जो ज़्यादातर [[सुन्नी]] थे, उनसे शत्रुता रखने लगे।  
 
==बहमनी सल्तनत का पतन==
 
==बहमनी सल्तनत का पतन==
दसवें सुल्तान अलाउद्दीन द्वितीय (1435-57 ई0) के शासनकाल में दक्खिनी और विदेशी मुसलमानों के संघर्ष ने अत्यन्त उग्र रूप धारण कर लिया। 1481 ई0 में 13वें सुल्तान मुहम्मद तृतीय के राज्य काल में [[मुहम्मद गवाँ]] को फाँसी दे दी गई, जो ग्यारहवें सुल्तान हमायूँ के समय से बहमनी सल्तनत का बड़ा वज़ीर था और उसने राज्य की बड़ी सेवा की थी। मुहम्मद गवाँ की मौत के बाद बहमनी सल्तनत का पतन शुरू हो गया।  
+
दसवें सुल्तान अलाउद्दीन द्वितीय (1435-57 ई.) के शासनकाल में दक्खिनी और विदेशी मुसलमानों के संघर्ष ने अत्यन्त उग्र रूप धारण कर लिया। 1481 ई. में 13वें सुल्तान मुहम्मद तृतीय के राज्य काल में [[महमूद गवाँ]] को फाँसी दे दी गई, जो ग्यारहवें सुल्तान हमायूँ के समय से बहमनी सल्तनत का बड़ा वज़ीर था और उसने राज्य की बड़ी सेवा की थी। मुहम्मद गवाँ की मौत के बाद बहमनी सल्तनत का पतन शुरू हो गया।
 +
 
 
==स्वतंत्र राज्य==
 
==स्वतंत्र राज्य==
अगले और आख़िरी सुलतान महमूद के राज्यकाल में बहमनी राज्य के पाँच स्वतंत्र राज्य [[बरार]], [[बीदर]], [[अहमदनगर]], [[गोलकुण्डा]] और [[बीजापुर]] बन गये। जिनके सूबेदारों ने अपने को स्वतंत्र सुल्तान घोषित कर दिया। इन पाँचों राज्यों ने 17वीं शताब्दी तक अपनी स्वतंत्रता बनाये रखी। तब इन सबको [[मुग़ल काल|मुग़ल साम्राज्य]] में मिला लिया गया।  
+
अगले और आख़िरी सुलतान महमूद के राज्यकाल में बहमनी राज्य के पाँच स्वतंत्र राज्य [[बरार]], [[बीदर]], [[अहमदनगर]], [[गोलकुण्डा]] और [[बीजापुर]] बन गये। जिनके सूबेदारों ने अपने को स्वतंत्र सुल्तान घोषित कर दिया। इन पाँचों राज्यों ने 17वीं शताब्दी तक अपनी स्वतंत्रता बनाये रखी। तब इन सबको [[मुग़ल काल|मुग़ल साम्राज्य]] में मिला लिया गया।
 +
 
 +
{| class="bharattable-green" border="1" style="margin:5px; float:right"
 +
|+बहमनी राज्य से स्वतंत्र हुए राज्य
 +
|-
 +
! राज्य
 +
! संस्थापक
 +
! राजवंश
 +
! राजधानी
 +
! समय
 +
|-
 +
| [[बरार]]
 +
| [[फ़तेहउल्ला इमादशाह]]
 +
| इमादशाही वंश
 +
| एलिचपुर, गाविलगढ़
 +
| 1484 ई.
 +
|-
 +
| [[बीजापुर]]
 +
| [[यूसुफ़ आदिल ख़ाँ]]
 +
| [[आदिलशाही वंश]]
 +
| नौरसपुर
 +
| 1489-90 ई.
 +
|-
 +
| [[अहमदनगर]]
 +
| [[मलिक अहमद]]
 +
| [[निज़ामशाही वंश]]
 +
| जुन्नार, [[अहमदनगर]]
 +
| 1490 ई.
 +
|-
 +
| [[गोलकुण्डा]]
 +
| कुली कुतुबशाह
 +
| कुतुबशाही वंश
 +
| [[गोलकुण्डा]]
 +
| 1512-18 ई.
 +
|-
 +
| [[बीदर]]
 +
| [[अली बरीद|अमीर अली बरीद]]
 +
| [[बरीदशाही वंश]]
 +
| [[बीदर]]
 +
|1526-27 ई.
 +
|-
 +
|}
 +
 
 
==इस्लामी शिक्षा==
 
==इस्लामी शिक्षा==
बहमनी सल्तनत से कोई ख़ास फ़ायदा नहीं पहुँचा। कुछ बहमनी सुल्तानों ने इस्लामी शिक्षा को प्रोत्साहन दिया और राज्य के पूर्वी भाग में सिंचाई का प्रबंध किया। लेकिन उनकी लड़ाइयों, नरसंहार और आगजनी से प्रजा को बहुत नुकसान पहुँचा।  
+
बहमनी सल्तनत से कोई ख़ास फ़ायदा नहीं पहुँचा। कुछ बहमनी सुल्तानों ने इस्लामी शिक्षा को प्रोत्साहन दिया और राज्य के पूर्वी भाग में सिंचाई का प्रबंध किया। लेकिन उनकी लड़ाइयों, नरसंहार और आगजनी से प्रजा को बहुत नुक़सान पहुँचा।  
 
==समृद्धि और ऐश्वर्य==
 
==समृद्धि और ऐश्वर्य==
इस सल्तनत में साधारण प्रजा की दशा बहुत दयनीय थी, जैसा कि रूसी व्यापारी एथानासियस निकितिन ने लिखा है, जिसने बहमनी राज्य का चार वर्ष (1470-74 ई0) तक भ्रमण किया। उसने लिखा है कि भूमि पर जनसंख्या का भार अत्यधिक है, जबकि अमीर लोग समृद्धि और ऐश्वर्य का जीवन बिताते हैं। वे जहाँ कहीं जाते हैं, उनके लिए चांदी के पलंग पहले से ही रवाना कर दिये जाते हैं। उनके साथ बहुत घुड़सवार और सिपाही, मशालची और गवैये चलते हैं।  
+
इस सल्तनत में साधारण प्रजा की दशा बहुत दयनीय थी, जैसा कि रूसी व्यापारी एथानासियस निकितिन ने लिखा है, जिसने बहमनी राज्य का चार वर्ष (1470-74 ई.) तक भ्रमण किया। उसने लिखा है कि भूमि पर जनसंख्या का भार अत्यधिक है, जबकि अमीर लोग समृद्धि और ऐश्वर्य का जीवन बिताते हैं। वे जहाँ कहीं जाते हैं, उनके लिए चांदी के पलंग पहले से ही रवाना कर दिये जाते हैं। उनके साथ बहुत घुड़सवार और सिपाही, मशालची और गवैये चलते हैं।  
 
==क़िले और मस्जिदें==
 
==क़िले और मस्जिदें==
बहमनी सुल्तानों ने गाबिलगढ़ और नरनाल में मज़बूत क़िले बनवाये और गुलबर्ग एवं बीदर में कुछ मस्जिदें भी बनवायीं। बहमनी सल्तनत के इतिहास से प्रकट होता है कि हिन्दू आबादी को सामूहिक रूप से किस प्रकार जबरन मुसलमान बनाने का सुल्तानों का प्रयास किस प्रकार विफल हुआ।
+
बहमनी सुल्तानों ने गाबिलगढ़ और नरनाल में मज़बूत क़िले बनवाये और गुलबर्ग एवं बीदर में कुछ मस्जिदें भी बनवायीं। बहमनी सल्तनत के इतिहास से प्रकट होता है कि हिन्दू आबादी को सामूहिक रूप से किस प्रकार जबरन मुसलमान बनाने का सुल्तानों का प्रयास किस प्रकार विफल हुआ।__NOTOC__
[[Category:विविध]]__INDEX__
+
 
 +
 
 +
{{लेख प्रगति|आधार=|प्रारम्भिक=प्रारम्भिक1|माध्यमिक=|पूर्णता=|शोध=}}
 +
==संबंधित लेख==
 +
{{भारत के राजवंश}}
 +
{{बहमनी साम्राज्य}}
 +
[[Category:बहमनी साम्राज्य]]
 +
[[Category:इतिहास कोश]]
 +
[[Category:भारत_के_राजवंश]]
 +
[[Category:मध्य काल]]
 +
[[Category:दक्कन सल्तनत]]
 +
__INDEX__

13:11, 23 जुलाई 2013 के समय का अवतरण

मुहम्मद बिन तुग़लक़ के शासन काल के अन्तिम दिनो में दक्कन में 'अमीरान-ए-सादाह' के विद्रोह के परिणामस्वरूप 1347 ई. में 'बहमनी साम्राज्य' की स्थापना हुई। दक्कन के सरदारों ने दौलताबाद के क़िले पर अधिकार कर' इस्माइल' अफ़ग़ान को' नासिरूद्दीन शाह' के नाम से दक्कन का राजा घोषित किया। इस्माइल बूढ़ा और आराम तलब होने के कारण इस पद के अयोग्य सिद्ध हुआ। शीघ्र ही उसे अधिक योग्य नेता हसन, जिसकी उपाधि 'जफ़र ख़ाँ' थी, के पक्ष में गद्दी छोड़नी पड़ी। जफ़र ख़ाँ को सरदारों ने 3 अगस्त, 1347 को 'अलाउद्दीन बहमनशाह' के नाम से सुल्तान घोषित किया। उसने अपने को ईरान के 'इस्फन्दियार' के वीर पुत्र 'बहमनशाह' का वंशज बताया, जबकि फ़रिश्ता के अनुसार- वह प्रारंभ में एक ब्राह्मण गंगू का नौकर था। उसके प्रति सम्मान प्रकट करने के उद्देश्य से शासक बनने के बाद बहमनशाह की उपाधि ली। अलाउद्दीन हसन ने गुलबर्गा को अपनी राजधानी बनाया तथा उसका नाम बदलकर 'अहसानाबाद' कर दिया। उसने साम्राज्य को चार प्रान्तों- गुलबर्गा, दौलताबाद, बरार और बीदर में बांटा। 4 फ़रवरी, 1358 को उसकी मृत्यु हो गयी। इसके उपरान्त सिंहासनारूढ़ होने वाले शासको में फ़िरोज शाह बहमनी ही सबसे योग्य शासक था।

बहमनी वंश के शासक
शासक शासन काल
अलाउद्दीन बहमन शाह प्रथम 1347-1358 ई.
मुहम्मद बहमनी शाह प्रथम 1358-1373 ई.
मुज़ाहिद बहमनी 1373-1377 ई.
दाऊद बहमनी 1378 ई.
मुहम्मद बहमनी शाह द्वितीय 1378-1397 ई.
ग़यासुद्दीन बहमनी 1397 ई.
शम्सुद्दीन बहमनी 1397 ई.
फ़िरोज शाह बहमनी 1397-1422 ई.
अहमदशाह प्रथम 1422-1435 ई.
अलाउद्दीन अहमदशाह द्वितीय 1435-1457 ई.
हुमायूँ शाह बहमनी 1457-1461 ई.
निज़ाम शाह बहमनी 1461-63 ई.
मुहम्मद बहमनी शाह तृतीय 1463-82
महमूद शाह बहमनी 1482-1518 ई.
कलीमुल्ला बहमनी शाह 1526-1538 ई.

विजयनगर से युद्ध

बहमनी सल्तनत की अपने पड़ोसी विजयनगर के हिन्दू राज्य से लगातार अनबन चलती रही। विजयनगर राज्य उस समय तुंगभद्रा नदी के दक्षिण और कृष्णा नदी के उत्तरी क्षेत्र में फैला हुआ था और उसकी पश्चिमी सीमा बहमनी राज्य से मिली हुई थी। विजयनगर राज्य के दो मज़बूत क़िले मुदगल और रायचूर बहमनी सीमा के निकट स्थित थे। इन क़िलों पर बहमनी सल्तनत और विजयनगर राज्य दोनों दाँत लगाये हुए थे। इन दोनों राज्यों में धर्म का अन्तर भी था। बहमनी राज्य इस्लामी और विजयनगर राज्य हिन्दू था। बहमनी सल्तनत की स्थापना के बाद ही उन दोनों राज्यों में लड़ाइयाँ शुरू हो गईं और वे तब तक चलती रहीं जब तक बहमनी सल्तनत क़ायम रही। बहमनी सुल्तानों के द्वारा पड़ोसी हिन्दू राज्य को नष्ट करने के सभी प्रयास निष्फल सिद्ध हुए, यद्यपि इन युद्धों में अनेक बार बहमनी सुल्तानों की विजय हुई और रायचूर के दोआब पर विजयनगर के राजाओं के मुक़ाबले में बहमनी सुल्तानों का अधिकार अधिक समय तक रहा।

तख़्त के लिए रक्तपात

बहमनी सुल्तानों में तख़्त के लिए प्रायः रक्तपात होता रहा। चार सुल्तानों को क़त्ल कर दिया गया। दो अन्य को गद्दी से जबरन उतार कर अंधा कर दिया गया। चौदह सुल्तानों में से केवल पाँच सुल्तान ही अपनी मौत से मरे। नवें सुल्तान अहमद ने राजधानी गुलबर्ग से हटाकर बीदर बनायी, जहाँ उसने अनेक आलीशान इमारतों का निर्माण कराया।

शासनिक पद

बहमनी राज्य की आबादी में मुसलमान अल्पसंख्यक थे, इसलिए सुल्तान ने राज्य के बाहर के मुसलमानों को वहाँ आकर बसने के लिए प्रोत्साहित किया। परिणामस्वरूप बहुत से विदेशी मुसलमान वहाँ आकर बस गये जो अधिकतर शिया थे। उनमें से बहुत से लोगों को राज्य के महत्त्वपूर्ण पदों पर नियुक्त किया गया। विदेशी मुसलमानों के बढ़ते हुए प्रभाव से खिन्न होकर दक्खिनी औ अबीसीनियाई मुसलमान, जो ज़्यादातर सुन्नी थे, उनसे शत्रुता रखने लगे।

बहमनी सल्तनत का पतन

दसवें सुल्तान अलाउद्दीन द्वितीय (1435-57 ई.) के शासनकाल में दक्खिनी और विदेशी मुसलमानों के संघर्ष ने अत्यन्त उग्र रूप धारण कर लिया। 1481 ई. में 13वें सुल्तान मुहम्मद तृतीय के राज्य काल में महमूद गवाँ को फाँसी दे दी गई, जो ग्यारहवें सुल्तान हमायूँ के समय से बहमनी सल्तनत का बड़ा वज़ीर था और उसने राज्य की बड़ी सेवा की थी। मुहम्मद गवाँ की मौत के बाद बहमनी सल्तनत का पतन शुरू हो गया।

स्वतंत्र राज्य

अगले और आख़िरी सुलतान महमूद के राज्यकाल में बहमनी राज्य के पाँच स्वतंत्र राज्य बरार, बीदर, अहमदनगर, गोलकुण्डा और बीजापुर बन गये। जिनके सूबेदारों ने अपने को स्वतंत्र सुल्तान घोषित कर दिया। इन पाँचों राज्यों ने 17वीं शताब्दी तक अपनी स्वतंत्रता बनाये रखी। तब इन सबको मुग़ल साम्राज्य में मिला लिया गया।

बहमनी राज्य से स्वतंत्र हुए राज्य
राज्य संस्थापक राजवंश राजधानी समय
बरार फ़तेहउल्ला इमादशाह इमादशाही वंश एलिचपुर, गाविलगढ़ 1484 ई.
बीजापुर यूसुफ़ आदिल ख़ाँ आदिलशाही वंश नौरसपुर 1489-90 ई.
अहमदनगर मलिक अहमद निज़ामशाही वंश जुन्नार, अहमदनगर 1490 ई.
गोलकुण्डा कुली कुतुबशाह कुतुबशाही वंश गोलकुण्डा 1512-18 ई.
बीदर अमीर अली बरीद बरीदशाही वंश बीदर 1526-27 ई.

इस्लामी शिक्षा

बहमनी सल्तनत से कोई ख़ास फ़ायदा नहीं पहुँचा। कुछ बहमनी सुल्तानों ने इस्लामी शिक्षा को प्रोत्साहन दिया और राज्य के पूर्वी भाग में सिंचाई का प्रबंध किया। लेकिन उनकी लड़ाइयों, नरसंहार और आगजनी से प्रजा को बहुत नुक़सान पहुँचा।

समृद्धि और ऐश्वर्य

इस सल्तनत में साधारण प्रजा की दशा बहुत दयनीय थी, जैसा कि रूसी व्यापारी एथानासियस निकितिन ने लिखा है, जिसने बहमनी राज्य का चार वर्ष (1470-74 ई.) तक भ्रमण किया। उसने लिखा है कि भूमि पर जनसंख्या का भार अत्यधिक है, जबकि अमीर लोग समृद्धि और ऐश्वर्य का जीवन बिताते हैं। वे जहाँ कहीं जाते हैं, उनके लिए चांदी के पलंग पहले से ही रवाना कर दिये जाते हैं। उनके साथ बहुत घुड़सवार और सिपाही, मशालची और गवैये चलते हैं।

क़िले और मस्जिदें

बहमनी सुल्तानों ने गाबिलगढ़ और नरनाल में मज़बूत क़िले बनवाये और गुलबर्ग एवं बीदर में कुछ मस्जिदें भी बनवायीं। बहमनी सल्तनत के इतिहास से प्रकट होता है कि हिन्दू आबादी को सामूहिक रूप से किस प्रकार जबरन मुसलमान बनाने का सुल्तानों का प्रयास किस प्रकार विफल हुआ।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

संबंधित लेख

"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=बहमनी_वंश&oldid=357150" से लिया गया