भारतकोश के संस्थापक/संपादक के फ़ेसबुक लाइव के लिए यहाँ क्लिक करें।

सर्वोत्तम जीवन रक्षा पदक  

सर्वोत्तम जीवन रक्षा पदक

सर्वोत्तम जीवन रक्षा पदक (अंग्रेज़ी: Sarvottam Jeevan Raksha Padak) भारत सरकार द्वारा प्रदान किया जाता है। जीवन रक्षा पदकों की श्रृंखला में यह सर्वश्रेष्ठ है। जीवन के सभी क्षेत्रों के व्यक्ति इन पुरस्कारों के लिए पात्र हैं। यह पुरस्कार मरणोपरांत भी दिया जाता है।

पात्रता शर्तें

यह पुरस्कार ऐसे व्यक्तियों को अदम्य साहस के प्रदर्शन हेतु दिया जाता है, जो अत्यंत संकटपूर्ण परिस्थितियों में भी अपने जीवन की परवाह किए बिना डूबने, आग में जलने, खदानों में बचाव कार्य, आदि के दौरान दूसरों का जीवन बचाने के लिए कार्य करते हैं, या मानव स्वभाव के कार्य की एक श्रृंखला का प्रदर्शन करते हैं। यह सम्मान मरणोपरांत भी दिया जा सकता है।

श्रेणियाँ

सशस्त्र सैन्य बल, पुलिस बल और मान्यता प्राप्त अग्निशमन सेवाओं के सदस्यों के अलावा सेना, नौसेना, वायु सेना और अन्य सभी सेवाओं के कर्मचारी वर्ग, यदि कर्तव्य निर्वहन के दौरान उनके द्वारा इस प्रकार का कार्य किया जाए, जीवन के सभी क्षेत्रों के पुरुष या महिला सहित। अगर इस पदक का कोई भी प्राप्तकर्ता एक बार फिर से मानवीय सेवा के ऐसे कृत्य का प्रदर्शन करे, जिसके आधार पर उसे पुनः इस सम्मान के योग्य समझा जाए तो पदक के रिबन में एक पट्टी संलग्न की जाएगी, साथ ही मानवीय सेवा के ऐसे प्रत्येक अतिरिक्त कृत्य के लिए उनके पदक के साथ एक अतिरिक्त पट्टी जोड़ी जाएगी। इस प्रकार के एक या अधिक पट्टी के साथ पदक प्राप्तकर्ता को मरणोपरांत भी सम्मानित किया जा सकता है। पदक की लघु प्रतिकृति के तौर पर सम्मान स्वरूप दी गयी पट्टी को रिबन में जोड़ा जाएगा।

नकद पुरस्कार

पुरस्कार प्राप्तकर्ताओं को 100,000 रुपये दिये जाएंगे। पुरस्कार के तौर पर पट्टी से सम्मानित किए जाने की स्थिति में नकद अनुदान निर्दिष्ट राशि का 50प्रतिशत होगा। मरणोपरांत सम्मानित किए जाने की स्थिति में, स्वीकार्य राशि का दोगुना नकद अनुदान के तौर पर दिया जाएगा।

पदक और फीता

सोने से निर्मित यह पदक गोलाकार होता है, जिसकी मोटाई 3 मि.मी. होती है और इस पर अंदर एवं बाहर की ओर दो वृत्त उभरे हुए होते हैं। बाह्य वृत्त का व्यास 58 मि.मी. और आंतरिक वृत्त का व्यास 50 मि.मी. होता है। इसके शीर्ष का बहिर्गत भाग आयताकार होता है, जिसकी लंबाई 22.5 मि.मी. और चौड़ाई 12.5 मि.मी. होती है और इस पर संस्कृत में अक्षर उभरे होते हैं। इसके निचले हिस्से के बहिर्गत भाग की लंबाई 42.5 मि.मी. और चौड़ाई 10 मि.मी. होती है, जिस पर हिंदी में पदक का नाम उत्कीर्ण होता है। इन बहिर्गत भागों के किनारे उभरे हुए होते हैं। इसके अग्रभाग के बीचों-बीच 'अभय मुद्रा' में हाथ की आकृति बनी होती है। इसके पृष्ठभाग पर राजकीय प्रतीक चिन्ह तथा निचले हिस्से में आदर्श वाक्य उत्कीर्ण होता है।[1]

लाल रंग के रेशमी रिबन की चौड़ाई 32 मि.मी. होती है, जिसके दोनों किनारों पर 4 मि.मी. चौड़ी हल्की नीली धारियां बनी होती हैं और 1 मि.मी. चौड़ी हरी पट्टी ऊपर से केंद्र की ओर नीचे की तरफ आती है।

पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. सर्वोत्तम जीवन रक्षा पदक (हिंदी) indiannavy.nic.in। अभिगमन तिथि: 26 मई, 2020।

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=सर्वोत्तम_जीवन_रक्षा_पदक&oldid=646760" से लिया गया