भारतकोश के संस्थापक/संपादक के फ़ेसबुक लाइव के लिए यहाँ क्लिक करें।

आईआरएस-पी4 उपग्रह  

आईआरएस-पी4 (ओशनसैट) पहला उपग्रह है, जिसे मुख्यतः महासागरीय अनुप्रयोगों के लिए निर्मित किया गया था। यह 1050 कि.ग्रा. भार सहित 720 कि.मी. ध्रवीय सूर्य-तुल्यकाली कक्षा में स्थापित किया गया था। इस उपग्रह का प्रमोचन 26 मई, 1999 को शार केंद्र, श्रीहरिकोटा से पीएसएलवी-सी2 द्वारा किया गया था।

यह उपग्रह समुद्र विज्ञान संबंधी अध्ययनों के लिए समुद्री कलर मॉनीटर (ओसीएम) तथा बहु-आवृत्ति क्रमवीक्षण माइक्रोवेव रेडियोमीटर (एमएसएमआर) वहन करता है। इस प्रकार आईआरएस-पी4 ने यथा आईआरएस-1बी, आईआरएस-1सी, आईआरएस-पी3 तथा आईआरएस-1डी चार उपग्रहों से संयुक्त इसरो (भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन) की आईआरएस उपग्रह प्रणाली का व्यापक रूप से संवर्धन तथा कई नए क्षेत्रों में सुदूर संवेदी अनुप्रयोगों का विस्तार किया है। 11 वर्ष और दो महीने की सेवा के बाद 8 अगस्त, 2010 को मिशन का समाप्त हुआ।


प्रमोचन दिनांक 26 मई, 1999
प्रमोचन स्थल शार, श्रीहरिकोटा, भारत
प्रमोचन यान पीएसएलवी-सी2
कक्षा ध्रुवीय सूर्य तुल्यकाली
तुंगता 720 कि.मी.
आनति 98.28 डिग्री
अवधि 99.31 मिनट
भूमध्यरेखा को पार करने का स्थानीय समय मध्याह्न 12 बजे
पुनरावृत्ति चक्र 2 दिन
आकार मी. 2.8 मी. x 1.98 मी. x 2.57 मी.
उत्थापन के समय भार 1050 कि.ग्रा.
पूर्ण प्रस्तरण पर लंबाई 11.67 मी.
अभिवृत्ति और कक्षा नियंत्रण अभिक्रिया चक्र, चुंबकीय आघूर्णक और हाइड्राज़ीन थ्रस्टरों के उपयोग द्वारा 3-अक्षीय पिंड-स्थिरीकृत
पॉवर 750 वॉ जनित करने वाले 9.6 वर्ग मी. सौर व्यूह दो 21 एएच एनआई-सीडी बैटरियाँ
मिशन का समापन 8 अगस्त, 2010


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=आईआरएस-पी4_उपग्रह&oldid=288032" से लिया गया