भारतकोश के संस्थापक/संपादक के फ़ेसबुक लाइव के लिए यहाँ क्लिक करें।

तैमूरी राजवंश  

तैमूरी राजवंश (अंग्रेज़ी: Timurid Empire) मध्य एशिया और उत्तरी भारतीय उपमहाद्वीप के विस्तृत इलाक़ों पर राज करने वाला तुर्की-मंगोल नस्ल का एक सुन्नी मुस्लिम वंश था। इस राजवंश के शासक स्वयं को 'गुरकानी राजवंश' का कहते थे।

  • जिस समय तैमूरी राजवंश अपने चरम पर था, तब इसके साम्राज्य में समस्त ईरान, अफ़ग़ानिस्तान और उज़बेकिस्तान के साथ-साथ पाकिस्तान, उत्तर भारत, आनातोलिया, कॉकस और मेसोपोटामिया के बड़े भूभाग शामिल थे।
  • तैमूरी राजवंश की नींव 14वीं शताब्दी ईसवी में तैमूर लंग नामक एक आक्रान्ता ने रखी थी।
  • 16वीं सदी में उज़बेकिस्तान की फ़रग़ना वादी से भारत पर आक्रमण करके मुग़ल साम्राज्य की स्थापना करने वाला बाबर भी इसी तैमूरी राजवंश का हिस्सा था।
  • तैमूर लंग को अक्सर 'अमीर तैमूर' कहा जाता था, इसलिए इस राजघराने के वंशज अपने नामों में अक्सर 'मिर्ज़ा' जोड़ लिया करते थे, जो 'अमीरज़ादा' का संक्षिप्त रूप है।
पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी

संबंधित लेख


वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=तैमूरी_राजवंश&oldid=645397" से लिया गया