ब्रह्मतीर्थ मथुरा  

  • यमुना के इस घाट पर अवस्थित होकर लोक पितामह ब्रह्माजी भगवद् आराधना करते हैं । यहाँ स्नान, आचमन, यमुनाजल पान और निवास करने से मनुष्य ब्रह्माजी के माध्यम से विष्णुलोक को प्राप्त करता है । ब्रह्मा के नाम से इसका नाम ब्रह्मतीर्थ पड़ा है ।
तीर्थानामुत्तमं तीर्थ ब्रह्मलोकेऽतिविश्रुतम्।

तत्र स्नात्वा च पीत्वा च नियतो नियतासन:।

ब्रह्मणा समनुज्ञतो विष्णुलोकं स गच्छति।।

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=ब्रह्मतीर्थ_मथुरा&oldid=67004" से लिया गया